Pregnancy Care in Hindi – गर्भावस्था में देखभाल कैसे करें

0
203
Pregnancy Care in Hindi

Pregnancy Care in Hindi में आप जान पाएंगे की गर्भावस्था में आपको कैसे अपना ध्यान रखना चाहिए| एक स्त्री के लिए माँ बनना ही सब कुछ होता है| माँ बनना हे एक स्त्री का सपना होता है| जब एक स्त्री Pregnant होती है तो उसके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं| Pregnancy Care in Hindi की जानकारी।

गर्भवस्था के वक्त बहुत ही देखभाल की ज़रुरत होती है| Pregnancy के समय हर एक छोटी से छोटी बात का ध्यान रखना ज़रूरी है क्युंकि इस समय दो ज़िंदगियाँ एक साथ बढ़ती हैं| इस समय में माँ और बच्चा दोनों की देखभाल बहुत ज़रूरी है| बच्चे के जन्म तक माँ को 40 हफ़्तों तक अपना ध्यान रखना पड़ता है| Pregnancy Care in Hindi के बारे में जानना आवश्यक है.

Pregnancy Care in Hindi

अगर आप नहीं जानते की आप गर्भवती है या नहीं तो निचे दिए गए लक्षण आपको जानने में मदद करेंगे|

  • मासिक धर्म का छूट जाना
  • थोड़े थोड़े समय में उलटी होना
  • थकावट रहना
  • स्तनों में फुलावट

अगर आपमें ये लक्षण लागू हो रहे हैं तो मतलब आप गर्भवती हैं| एक बार डॉक्टर के पास जाकर उनसे  मिलना चाहिए और  पता करना चाहिए की आप Pregnant हैं  या नहीं|

गर्भवस्था 3 Trimester में बांटा गया है –

  • 1st trimester
  • 2nd trimester
  • 3rd trimester

गर्भावस्था  का पहला तिमाही trimester पहले हफ्ते से लेकर 12वे हफ्ते तक होता है|

गर्भावस्था  का दूसरा तिमाही trimester 13 हफ्ते से लेकर 28 हफ्ते तक होता है|

गर्भावस्काथा  तीसरा तिमाही trimester 29 हफ्ते से 40 हफ्ते तक चलता है|

 1. गर्भावस्था का पहला तिमाही 1-12वे हफ्ते तक (First Trimester of Pregnancy in Hindi) Pregnancy Care in Hindi

गर्भावस्था का पहला तिमाही में बच्चे का विकास बहुत तेजी से होता है| ऐसे में माँ के शरीर में बहुत से परिवर्तन आते हैं| गर्भावस्था के शुरुआती 4 हफ्तों तक कई स्त्री को पता नहीं होता की वे गर्भवती है| पर कुछ महिलाओ में लक्षण पहले से ही दिखाए देने लगते हैं| इस तिमाही में ज्यादातर महिलाओं को 12वे हफ्ते में बच्चे की Heart Beat सुनने लगती है|

पहले तिमाही में शरीर में बहुत सारे बदलाव महसूस होते हैं|

निचे दिए गए बदलाव आपको अनुभव हो सकते हैं –

  • उलटी होना पहले तिमाही में आपको उलटी हो सकती है| कुछ खाने के बाद उलटी आ सकती है | परन्तु अगर आप अपने खाने में ज्यादा ताली चीज़े कहते हैं तो कई महिलाओ में हद से ज्यादा उलटी होने लगती है| उस समय में आपको अपने Gynecologist डॉक्टर से मिलना चाहिए|
  • स्तनों में बदलाव  इस तिमाही में आपके शरीर में Progesteron और Estrogen की मात्रा काफी बढ़ जाती है जिसकी वजह से आपके बड़े हो जाते हैं| और Nipples का रंग भी गाढ़ा हो जाता है| हो सकता है की जब आप अपने स्तन को छुए तो दर्द भी हो|
  • कमज़ोरी आना – इस समय आपके शरीर की सारी शक्ति आपके बच्चे के विकास में लग जाती है| इसलिए अगर  समय आप ज्यादा काम करते हैं तो आपको कमज़ोरी महसूस होती है| ऐसे समय में आपको ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए|
  • बार-बार पेशाब का लगना – यह इसलिए होता है क्युंकि इस समय शरीर में Progesteron Hormone बढ़ता है|

गर्भावस्था के पहले तिमाही कुछ चीज़ों का ज़रूर ध्यान दें|

  • अपने आस पास  वातावरण साफ़ रखें\ घर की अच्छे से सफाई रखें| अगर आपके घर में कोई पालतू जानवर है तो उसे छूने के बाद अच्छे से अपने हाथ धोएं|
  • अगर आप मांस, अंडा या मछली खाते हैं तो याद रखें की आप हमेशा ताज़ा मॉस ही खाएं और उसे अच्छे से पकाकर खाएं|
  • पानी को हमेशा अच्छे से उबाल कर पिएं|
  • अगर आप गर्भवस्था से पहले कोई भी दवाई कहते थे| तो ध्यान रहे गर्भावस्था के बाद अपने डॉक्टर से इस विषय में जरूर बात करें| की वो दवाई आपका लिए खाना सुरक्षित है या नहीं|
  • अगर आप बहुत ज्यादा कॉफ़ी पीते हैं तो| गर्भावस्था के दौरान हो सके तो कॉफ़ी पीना छोड़ दें|
  • इस तिमाही में बच्चा माँ के गर्भाशय से जुड़ता है तो इस समय आप ज्यादा कहीं मत जाए या ज्यादा मत  चलें|
  • गर्भावस्था के समय आपको सिगरेट या शराब नहीं पीनी चाहिए| pregnancy care in hindi

2. गर्भावस्था का दूसरा तिमाही 13-28 हफ्ते तक – Second Trimester of Pregnancy in Hindi)

गर्भावस्था के दूसरे तिमाही में आपको उतनी परेशानी नहीं होगी जितनी आपको पहले तिमाही में होती थी| यह तिमाही अधिकतर महिलाओं के लिए अच्छा माना जाता है| 2nd Trimester में आप अपने बच्चे को अच्छे से महसूस कर सकते हैं|

गर्भावस्था के दूसरे तिमाही में होने वाले लक्षण –

  • बच्चे के हिलने का एहसास – एक औरत को बहुत ख़ुशी होती है जब वो अपने गर्भ पल रहे अपने बच्चे का हिलना महसूस करती है| इस तिमाही के अंत तक आप अपने बच्चे को अचे से महसूस कर सकेंगी|
  • कमर दर्द – इस तिमाही में आपका वजन बढ़ जाता है और बच्चे का भी विकास हो जाता है| जिसकी वजह से आपकी रीढ़ की हड्डी में जोर पड़ता है और आपकी कमर में दर्द होती है|
  • सांस लेने में तकलीफ – इस तिमाही में आपको कभी-कभी सांस लेने में तकलीफ हो सकती है|
  • बदहजमी – इस तिमाही में आपके भार के कारण आपको खाना अचे से पच नहीं पाता| जिसके कारण आपको बदहजमी की प्रॉब्लम हो सकती है|

दूसरे तिमाही में निचे बताई गई कुछ बातों का ध्यान रखें – Pregnancy Care in Hindi

इस तिमाही के 18 या 19 हफ्ते में आप डॉक्टर से ज़रूर मिलें| क्युंकि इस समय में डॉक्टर Ultrasound करके पता लगाते हैं कि बच्चा स्वस्थ है या नहीं या फिर बच्चे की position का पता लगाते हैं|

  •  इस समय अपने गर्भ में पल रहे बच्चे को पहली बार देख सकते हैं| और उसकी दिल की धड़कन भी सुन सकते हैं|
  • इस तिमाही में आपको अपने बच्चे के लिए अच्छी किताबें पड़ें जिससे आपके बच्चे को प्रेरणा मिले| इस समय में आप गुस्सा बिलकुल भी मत करें|
  • इस तिमाही में आपको अपने बच्चे के लिए शॉपिंग शुरू कर देनी चाहिए|

3. गर्भावस्था का तीसरा महीना 29-40 हफ़्तों तक (Third Trimester of Pregnancy in Hindi)

इस तिमाही में आपके बच्चे का वजन और बढ़ जाता है| इस समय में आपको बहुत ही उत्सुकता होती है कि जल्द ही आप माँ बनने वाली हैं|

तीसरे तिमाही में होने वाले लक्षण –

  • पेट या कमर में खिंचाव (Stretch Marks) के निशान – इस समय में आपकी त्वचा के खिचाव के कारण आपके पेट या कमर में खिंचाव के निशान पड़ जाते हैं|
  • त्वचा में बदलाव – आपके बढ़ते वजन की वजह से पैरों में ज्यादा प्रेशर पड़ने के कारण आपके पैर की Vericose Vein दिखने लगती है| इसके बारे में आप अपने डॉक्टर से सलाह लें|
  • पैर में सूजन – ज्यादा भर की वजह से आपके पैर सूजने लागत है| और पैरों में दर्द भी रहती है|
  • पेशाब का अपने आप निकल जाना – यह किसी चिंता का विषय नहीं है| बच्चे के आपके मूत्राशय पर ज्यादा दबाव पड़ने के कारण ऐसा होता है|

इस तिमाही में आप ज्यादा मत घबराए और आखरी हफ़्तों में आप  प्रसव (Delievery) की तैयारी कर सकते हैं|

अगर आपको किसी भी बात की चिंता है तो अपने दोस्तो और अपने परिवार के साथ बांटें|

Pregnancy Care in Hindi के बारे में आप जान गए होंगे. इस पोस्ट को शेयर जरूर करें. 

इन्हें भी जाने:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here