Cholesterol control karne ke Upay – कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल करने के घरेलू उपाय

0
133
cholesterol control karne ke upay

Cholesterol control Karne Ke Upay कोलेस्ट्रॉल एक तरह का फैट है जो हमारे खून में पाया जाता है| कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर के लिए बहुत ज़रूरी होता है क्योकिं कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर में स्वस्थ कोशिकाएँ बनाता है| लेकिन अगर हमारे शरीर में ज्यादा मात्रा में कोलस्ट्रोल हो जाए तो हृदय रोग के चांस बढ़ जाते हैं| इसका कारण हमारा बदलती जीवन शैली हो सकती है| कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल करना बहुत ही आवश्यक होता है इसके लिए Cholesterol control Karne Ke Upay जानना जरुरी है.

Cholesterol control Karne Ke Upay

इस व्यस्त जीवन शैली में हम अपनी सेहत का ध्यान नहीं रख पाते और बहुत से बइमारियाँ हमारे शरीर में घर कर लेती हैं| 80 % कोलेस्ट्रॉल हमारे लिवर से उत्पन्न होता है| और बाकी हमारे कहने के उत्पादों से आता है जैसे की मीट, अंडा, मछली, और दूध| जो उत्पाद किसी पेड़ या पौधे से उत्पन्न होते हैं उनमे कोलेस्ट्रॉल नहीं होता|

कोलेस्ट्रॉल कितने प्रकार के होते हैं – cholesterol kitne prakar ka hota hai

कोलेस्ट्रॉल कभी भी रक्त में सीधे नहीं जाता| यह फैट के जरिये आपके रक्त में फैलता है|

तीन प्रकार के कोलेस्ट्रॉल होते हैं|

  1. कम धनत्व लेपोप्रोटीन (Low-Density Lipoprotein)

इसमें हमारे शरीर में काफी ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल और प्रोटीन मौजूद होता है| जिसे हम खराब कोलेस्ट्रॉल भी कह सकते हैं| ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल होने की वजह से हमारी धमनियों (arteries) में प्लेक (Plaque) जमा हो जाता है| प्लेक के बढ़ने से रक्त का बहना कम हो जाता है| इसकी वजह से हृदय रोग और स्ट्रोक (Stroke) के चांस बहुत बढ़ जाते हैं|

  1. उच्च धनत्व लेपोप्रोटीन (High-Density Lipoprotein)

इसमें ज्यादा मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है और कोलेस्ट्रॉल कम मात्रा में पाया जाता है| इसे हम good कोलेस्ट्रॉल भी बोल सकते हैं| किसी भी मनुष्य के शरीर में अगर इस प्रकार का कोलेस्ट्रॉल होता है तो उसे हृदये सम्बंधित रोग नहीं होते|

  1. बहुत जम धनत्व लेपोप्रोटीन (Very Low-Density Lipoprotein)

इसमें ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल होता है पर Low-density Lipoprotein के मुकाबले कम मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है| इसमें भी प्लेक (Plaque) बनते हैं|

ज्यादा कोलेस्ट्रॉल हानिकारक क्यों होते हैं – Cholesterol Se Nuksan

जैसा की अब आप जानते हैं की ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल होने से प्लेक बनता है जिसकी वजह से रक्त का बहना कम हो जाता है|

आपके दिमाग में रक्त का बहना कम हो जाता है| इसका कारण है, प्लेक के बनने से हमारी धमनियां सिकुड़ जाती हैं और वे ब्लॉक भी हो सकती हैं| जिसकी वजह से स्ट्रोक या transient ischemic attack पड़ता है|

 कोलेस्ट्रॉल के लक्षण – cholesterol ke lakshan in hindi

आमतौर पर कोलेस्ट्रॉल का कोई लक्षण नहीं होता| कोलेस्ट्रॉल होने से दूसरी बिमारी के होने के ज़्यादा चांस बड़ जाते हैं|

  • ज्यादा ब्लडप्रेशर
  • हार्ट अटैक

कोलेस्ट्रॉल की जांच का मात्र एक ही उपाय है| ब्लड टैस्ट के जरिये कोलेस्ट्रॉल का पता लगा सकते है|

कोलेस्ट्रॉल कम करने के कुछ घरेलू उपाय – cholesterol control karne ke upay

हरी सब्जियाँ (Green Vegetables)

ताजा और हरी भरी सब्जियों का सेवन करने से आपके धमनियों (arteries) में प्लेक नहीं जमेगा| हरी सब्जियों से आपको फाइबर मिलता है जिसकी मदद से रक्त का संचार अचे से बने रहता है|

अलसी के बीज

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अलसी के बीज बहुत अचे माने गए हैं| अलसी के बीज को पीस कर आप जैसे चाहें वैसे इस्तेमाल कर सकते हैं, चाहे सलाद में या सब्जी में मिला कर|

लहसुन

कच्चे लहसुन के सेवन से आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर अनुकूल हो जाता है| वैसे तो लहसुन हमारी सेहत के लिए भी लाभदायक है| अगर कोई व्यक्ति रक्त के लिए कोई दवाई लेते हैं तो उन्हें लहसुन  खाने से पहले एक बार डॉक्टर से पूछ लेना चाहिए|

सेब का सिरका भी कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक है. आप हाई कोलेस्ट्रॉल को कण्ट्रोल करने में सेब के सिरके का इस्तेमाल कर सकते हैं.

cholesterol control karne ke upay

संतरे का जूस भी बढ़ते कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है. संतरे के जूस में स्टेरोल के गुण पाए जाते हैं. जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में और भी अधिक कारगर हैं.

cholesterol control karne ke upay कोलेस्ट्रॉल को कण्ट्रोल करने के लिए आप इन उपायों को अच्छे से करें ये आपके लिए बहुत ही फायदेमंद हैं. इस पोस्ट को शेयर जरुर करें.

इन्हें भी जाने:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here